तकनीक कर्मचारियों को अब फील्ड में जाकर काम करना होगा अनिवार्य :सर्कल सचिव सन्तराम लाम्बा

0
153

फरीदाबाद के सर्कल सचिव सन्तराम लाम्बा ने बिजली निगम के अधिकारियों पर कड़े आरोप लगाते हुए कहा है कि दफ्तरों में आरामदायक कामकाज कर रहे बिजली निगम सर्कल फरीदाबाद के तकनीक कर्मचारियों को अब फील्ड में जाकर काम करना अनिवार्य होगा । इसके लिये बिजली निगम के प्रबंध निदेशक ने सभी (एस.ई) अधीक्षण अभियंताओं सहित (एक्सईएन) कार्यकारी अभियंताओं को आदेश जारी कर इसका सख्ती से पालन करने को कहा हैं । प्रबंध निदेशक ने लिपिक पद पर कार्यरत तकनीक कर्मचारियों की एक सूची मांगी थी । जिसमे यह पता चला है कि सर्कल फरीदाबाद में 24 ऐसे तकनीक कर्मचारी हैं जो अफसरों के चहेते बन कमाउपूत की भूमिका निभाते हुए फील्ड में काम करने की बजाय दफ्तरों में बैठ लिपिक पद पर कार्य कर रहे हैं । जबकि तकनीक कर्मियों की फील्ड में सबसे ज्यादा कर्मियों की कमी से फजीहत और बिजली लाइन को ठीक करने को लेकर जरूरत होती है । लेकिन दफ्तरों में लिपिक पद पर काम करने वाले टेक्निकल कर्मियों के अहम मुद्दे पर निगम प्रबधन ने इस पर गम्भीरता से विचार किया जिसके बाद क्लेरिकल सीटों पर काम कर रहे लाइनमैन, फोरमैन, एसएसए, जूनियर इंजिनियर यानी जेई, एएसएसए आदि कर्मियों को फील्ड में तुरंत स्थानांतरित कर के इनसे फील्ड में काम लिया जाए । लिपकीय पद पर तकनीक कर्मचारियों की नियुक्ति पर निगम प्रबंधन को काफी शिकायतें सुनने को मिल रही थीं । गौरतलब है कि फील्ड में तकनीक कर्मियों की कमी के चलते मैनेजमेन्ट ने यह सराहनीय कदम उठाया है । बिजली लाइन को दुरूस्तगी के साथ चलाने और फाल्ट पड़ने के लाइन के खराब हो जाने के दौरान तकनीक यानी लाइनमैन के फ्री होने का इंतजार रहता है । लाइनमैन के फ्री होने के बाद ही खराब लाइन को ठीक किया जाता है । जो तकनीक कर्मियों की कमी के रहते काफी समय लग जाता है । यदि ऐसे में ये 24 तकनीक कर्मचारी फील्ड में उतार दिए जाएंगे तो काफी हद तक फाल्टी लाइन को तुरंत मरम्मत कर जल्दी सुचारू करने में निगम को और जनता दोनो को बहुत सहूलियत होगी । जिसके चलते निगम प्रबंधन ने हर जिले से एएलएम व लाइनमैन तथा अन्य सभी तकनीक कर्मियों की सूची माँगी है । ताकि लिपिक पद बैठ दफ्तरों में काम करने वाले टेक्निकल कर्मियों पर कार्यवाही की जा सके । इस तरह से क्लेरिक पदों पर काम करने की वजह से फील्ड में लाइनमैनों की कमी आयी है । इसी तरह से सिरसा जिले में 69 लाइनमैन लिपिक पद पर काम कर रहे हैं । इसके अलावा अन्य जिलों में नारनौल सर्कल में 15, फरीदाबाद सर्कल में 24, फतेहाबाद सर्कल में 31, गुरुग्राम सर्कल में 14, भिवानी सर्कल में 19, जिन्द सर्कल में 79, पलवल सर्कल में 46, रेवाड़ी सर्कल में 21 और हिसार सर्कल में 57 तकनीक कर्मचारी दफ्तरों में क्लर्क बने बैठ काम कर रहे हैं । जो फील्ड के काम की बजाय दफ्तरी काम कर रहे हैं । इस बारे में जब एचएसईबी वर्कर्स यूनियन के कर्मचारी नेताओं ने अधिकारियों से इस बात को रखा तो यूनियन के डर से अधिकारियों ने इस संबंध में चुप्पी साधे रखी और निगम के एक्सईएन व एसई ने इस संबंध में कभी कार्यवाही करने की नही सोची क्योंकि वह बिजली कर्मचारी यूनियन से डरते हैं । जबकि निगम प्रबंधन ने कड़े आदेश जारी कर अनुशास्त्मक कार्यवाही करते हुए सभी को फील्ड में लगाने को सख्ती से कहा है । जिस पर फरीदाबाद के अधिकारी ढुलमुल रवैया अपनाये हुए हैं । अधिकारियों के इस रविये पर यूनियन अपना विरोध दर्ज कराती है और चेतावनी देती है कि जल्द इन कमाउ पूतों को फील्ड में भेजा जाए अन्यथा यूनियन अपना अग्रिम हेजिटेशन करने को बाध्य होगी ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here