सोनल गोयल ने सिंगल यूज प्लास्टिक के खतरों के विरूद्ध जन-जागरण अभियान चलाने का किया आहवान

0
254

फरीदाबाद, 12 दिसम्बर। नगर निगम की आयुक्त सोनल गोयल ने सिंगल यूज प्लास्टिक के खतरों के प्रति सचेत करते हुए इसके विरूद्ध जन-जागरण अभियान चलाने का आहवान किया है। स्थानीय एन.एच.-1, एन.आई.टी फरीदाबाद स्थित राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में अयोजित एक समारोह को सम्बोधित करते हुए उन्होने यह बात कही। उन्होने स्वच्छ भारत अभियान के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि फरीदाबाद नगर निगम इस अभियान को एक जन-आंदोलन बनायेगा। इस अवसर पर उन्होने स्कूली बच्चों को अपने को स्वच्छ रखने व पलास्टिक का प्रयोग न करने के बारे में भी शपथ दिलाई। विद्यालय के प्राचार्य रमेश गुप्ता ने निग्मायुक्त सहित समारोह में उपस्थित सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए विश्वास दिलाया कि विद्यालय के सभी शिक्षक न केवल विद्यालय के बच्चों को बल्कि आम नागरिकों को भी स्वच्छता के प्रति प्रेरित करते हुए सिंगल यूज प्लास्टिक के गम्भाीर खतरों से भी अवगत करवायेंगे।निग्मायुक्त ने अपने सम्बोधन में पालीथिन व सिंगल यूज प्लास्टिक का सम्पूर्ण बहिष्कार करने और जूट अथवा कपड़े के थैलों का प्रयोग करने की अपील करते हुए कहा कि बाजार से सामान उठाकर लाने की सहूलियत देने वाली पॉलीथीन न केवल हमारे पर्यावरण के लिए बहुत हानिकारक है बल्कि जानलेवा भी है। यह जीवन के लिए जहर है। थोड़ी सी सहूलियत के लिए हम समूचे जीव जगत को खतरे में डाल रहे हैं। पॉलीथीन ऐसे रसायनों से बनाया जाता है, जो जमीन में 100 सैंकड़ों वर्ष तक गाड़ देने से भी नष्ट नहीं होता। सौ साल के पश्चात भी पॉलीथीन को जमीन से ज्यों का त्यों निकाला जा सकता है। जरा सोचें हमारी धरती संसार की हर चीज हजम कर लेती है, किन्तु पॉलीथीन तो उसे भी हजम नहीं होता। पॉलीथीन पृथ्वी के स्वास्थ्य और हमारे स्वास्थ्य पर बहुत बुरा असर डालता है। पॉलीथीन पानी के रास्ते को अवरुद्ध करता है खनिजों का रास्ता रोक लेता है अर्थात एक ऐसी रुकावट जो जीवन के सहज प्रवाह को रोक लेती है। पॉलिथीन से निकलने वाली जहरीली गैसें हवा के साथ मिलकर उसे जहरीला बनाती हैं। पानी में फेंके जाने पर ये जलचक्र में बाधक होकर बादल बनने से रोकता है, पानी के जीवों के असमय मौत का कारण बनता है। खुले में पॉलिथीन का फेंका जाना और भी खतरनाक है। यह मिट्टी को भुरभुरी कर देता है और पशुओं की मौत का कारण भी पॉलिथीन ही बनता है। हम धर्म के नाम पर पुण्य कमाने के लिए अक्सर गाय तथा अन्य जानवरों को पॉलीथीन में लिपटी रोटी, सब्जी फल आदि ही डाल देते हैं। वे बेजुबान पशु उसे ज्यों का त्यों निगल जाते हैं जिससे उनकी आँतों में रुकावट पैदा होती है और वे तड़प -तड़प कर मर जाते हैं। यदि प्लास्टिक जमीन में धंस जाए तो कभी भी नहीं गलती है। समारोह में अन्य के इलावा निगम के अधीक्षण अभियन्ता बीरेन्द्र करदम, कार्यकारी अभियन्ता श्याम सिंह, हरियाणा प्रदूषण नियन्त्रण बोर्ड के सहायक अभियन्ता हार्दिक, पूनम त्रिखा,दीपा रानी, सरला कुमारी, राम करण, प्रेम राज, सुधीर सहित विद्यालय के शिक्षक, कर्मचारी व छात्राये भी उपस्थित थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here