ट्रेन विस्फोट मामले में 4 आरोपियों के बरी होने पर पाकिस्तानियों ने जताया विरोध

0
337

लाहौर: समझौता एक्सप्रेस ट्रेन में 12 साल पहले हुए विस्फोट मामले में भारतीय अदालत द्वारा 4 आरोपियों को बरी किए जाने के फैसले का इस विस्फोट में मारे गए पाकिस्तानी नागरिकों के परिजन विरोध कर रहे हैं। इस विस्फोट में 68 यात्री मारे गये थे। सोमवार को पूर्वी लाहौर शहर में एक रैली में ये परिजन हमें इंसाफ चाहिए के नारे लगा रहे थे।

पीड़ित परिवार प्रधानमंत्री इमरान खान से इस मामले को अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत ले जाने की मांग कर रहे थे। पिछले सप्ताह एक भारतीय अदालत ने अपने फैसले में कहा था कि जांचकर्ता आरोपियों को दोषी साबित नहीं कर पाए। 2007 में नई दिल्ली से अटारी जा रही समझौता एक्सप्रेस की 2 कोच में विस्फोट के बाद आग लग गई थी। मरने वाले लोगों में अधिकतर पाकिस्तानी नागरिक थे। अटारी पाकिस्तान सीमा से पहले पड़ने वाला अंतिम स्टेशन है।

बता दें कि इससे पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने भी सभी आरोपियों के बरी हो जाने की निंदा की है। उन्होंने कहा था कि यह पीड़ितों के साथ अमानवीयता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here