कृषि कानून के खिलाफ़ किसानों का साथ देते नज़र आए अन्य वर्कर

0
167

फरीदाबाद | तीन नए कृषि कानूनों और न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी की मांग को लेकर देश के किसान संगठनों के आवाहन पर ज्वाइंट ट्रेड यूनियन काउंसिल के बैनर के तले सैकड़ों मजदूर कर्मचारी भारत बंद में शामिल हुए। पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार विभिन्न विभागों के कर्मचारी बड़े सवेरे नगर निगम के मुख्यालय पर एकत्रित होने शुरू हो गए थे। इसमें दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के कर्मचारियों के साथ नगर निगम, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी, सिंचाई विभाग, हरियाणा टूरिज्म, हरियाणा रोडवेज, शिक्षा विभाग, हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण बागवानी मंडल, स्वास्थ्य विभाग, के अलावा आशा वर्कर यूनियन, आगनबाडी वर्कर एवं हेल्पर यूनियन, मिड डे मील वर्कर, मदर ग्रुप समिति, के अलावा अलग-अलग कारखाने के मजदूरों ने भी बड़ी संख्या में भाग लिया। यहां पर हुई सभा की अध्यक्षता एटक के प्रधान विशंभर सिंह, सीटू के जिला प्रधान निरंतर पराशर, एच एम एस के प्रधान डीएन मिश्रा, सर्व कर्मचारी संघ के उपप्रधान अतर सिंह, आईसीटी यू की कॉमरेड सरोज इटक के प्रधान हुकुमचंद ने संयुक्त रूप से की। जबकि कार्यक्रम का संचालन सीटू के जिला उपाध्यक्ष वीरेंद्र सिंह डंगवाल ने किया। यहां पर उपस्थित मजदूर कर्मचारियों को संबोधित करते हुए सर्व कर्मचारी संघ के राज्य उपाध्यक्ष और नगरपालिका कर्मचारी संघ के राज्य प्रधान नरेश कुमार शास्त्री ने कहा कि केंद्र की सरकार खेती किसानी को बर्बाद करने के लिए तीन कृषि कानून बना रही है जबकि देश का अन्नदाता किसान इन कानूनों से कतई सहमत नहीं है इसके बावजूद भी देश की सरकार ने लोकसभा और राज्यसभा में इन बिलों को बिना बहस के ही पास करवा दिया। उन्होंने बताया कि आज का बंद पूर्ण रूप से सफल हुआ है कार्यालयों में किसी भी प्रकार का काम नहीं हुआ सभी कर्मचारी और मजदूर केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ सड़कों पर आकर आंदोलन में शामिल हुए हैं। सभा को संबोधित करते हुए एटक के प्रधान विशंभर सिंह ने बताया कि केंद्र सरकार किसानों के साथ अन्याय कर रही है। सभा को संबोधित करते हुए हिंद मजदूर सभा के नेता राजपाल डांगी और आईसीटी यूके कामरेड जवाहरलाल तथा इंटक के कामरेड हुकम चंद बेनीवाल ने कहां की राज्य की सरकार ने पंजाब की तरफ से आ रहे किसानों के साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया। आंदोलनरत किसानों के ऊपर अश्रु गैस, मशीन के द्वारा पानी की बौछार और पुलिस से लाठीचार्ज करवाया गया। सभा को संबोधित करते हुए लालबाबू शर्मा ने केंद्र सरकार पर मजदूरों के लिए बनाए गए श्रम कानूनों में संशोधन करने का आरोप लगाया। बैठक में बोलते हुए सर्व कर्मचारी संघ के जिला सचिव बलवीर सिंह गुहेर ने किसानों के आंदोलन का समर्थन करते हुए बताया कि राज्य की सरकार बंद को असफल बनाने के लिए कर्मचारी नेताओं की धरपकड़ करने में जुट गई थी। सर्व कर्मचारी संघ के राज्य अध्यक्ष सुभाष लांबा और वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेश कुमार शास्त्री के घरों पर रात को पुलिस ने छापेमारी की। इसके साथ साथ रोडवेज के प्रधान रविंद्र नागर को उनके गांव में जाकर पुलिस गिरफ्तार करके तिगांव थाने में ले आई। यह सारे कदम राज्य की सरकार ने बौखलाहट में उठाए हैं। ज्वाइंट ट्रेड यूनियन काउंसिल ने सरकार की इस पुलिस कार्यवाही की कड़े शब्दों में निंदा की। आज की सभा किसान सभा के नेता नवल सिंह , आंगनवाड़ी वर्कर एवं हेल्पर यूनियन की राज्य प्रधान देवेंद्र री शर्मा ग्रामीण सफाई कर्मचारी यूनियन के राज्य अध्यक्ष और सीटू के राज्य कमेटी सदस्य देवी राम, रोडवेज वर्कर यूनियन के केंद्रीय कमेटी के नेता रामआसरे, सीटू के उप प्रधान विजय झा, आशा वर्कर यूनियन की प्रधान हेमलता,सचिव सुधापाल, नगरपालिका कर्मचारी संघ के जिला प्रधान गुरुचरण खंडिया, नगर निगम सफाई कर्मचारी यूनियन के सेक्रेटरी सोमपाल झिंझोटी या, वरिष्ठ उपप्रधान श्री नंद ढाकोलिया, सर्व कर्मचारी संघ फरीदाबाद के ब्लॉक प्रधान करतार सिंह, ब्लॉक सेक्रेटरी जगदीश चंद्र, ए एचपीसी वर्कर यूनियन की केंद्रीय कमेटी के नेता शब्बीर अहमद, हुड्डा जन स्वास्थ्य कर्मचारी यूनियन के सरकल सेक्रेटरी धर्मवीर वैष्णव,मिड डे मील वर्कर की जिला प्रधान कमलेश चौधरी, सर्व कर्मचारी संघ के जिला कोषाध्यक्ष एवं हरियाणा पर्यटन निगम कर्मचारी यूनियन के महासचिव युद्धवीर सिंह खत्री, रिटायर कर्मचारी संघ के राज्य उप प्रधान यूएम खान, के अलावा मदर ग्रुप समिति की जिला प्रधान निज रवि ने भी संबोधित किया। सभा के अंत में सैकड़ों मजदूर कर्मचारियों ने बीके नगर निगम चौक से नीलम चौक तक जुलूस निकाला। प्रदर्शनकारी अपने हाथों में झंडे बैनर लेकर नारे लगा रहे थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here