माल्या की जब्त ऐसेट्स की बिक्री, शेयर बेचने से मिले 1008 करोड़ रुपये

0
355

 

नई दिल्ली : भगोड़े आर्थिक अपराधी विजय माल्या की जब्त की गई ऐसेट्स की पहली बिक्री में अथॉरिटीज को बुधवार को 1008 करोड़ रुपये हासिल हुए हैं। उन्होंने माल्या के शेयर बेचे। एक पीएमएलए कोर्ट ने  यूनाइटेड ब्रुअरीज होल्डिंग्स लिमिटेड (यूबीएचएल) की यह मांग खारिज कर दी थी कि उसकी सब्सिडियरी रही यूनाइटेड ब्रुअरीज लिमिटेड (यूबीएल) के शेयरों की बिक्री पर रोक लगाई जाए।

मार्च 2016 में माल्या के देश छोड़कर निकल जाने के बाद से उसकी जब्त की गई ऐसेट्स की यह पहली बिक्री थी। ये शेयर पहले यूबीएचएल के पास थे, जो माल्या की सभी कंपनियों की होल्डिंग कंपनी थी। यूबीएचएल पर अभी दुनिया की सबसे बड़ी शराब कंपनी डायाजियो का कंट्रोल है। माल्या की दिवालिया हो चुकी कंपनी किंगफिशर एयरलाइंस के मामले की जांच में प्रवर्तन निदेशालय (एन्फोर्समेंट डायरेक्टरेट यानी ईडी) ने पाया था कि यूबीएल के शेयरों के रूप में काफी ऐसेट्स यस बैंक के पास पड़ी हुई हैं।

ईडी के अनुसार, उसने जांच में पाया कि किंगफिशर एयरलाइंस ने लोन का काफी हिस्सा चुका दिया था और मामूली रकम ही बकाया है। लिहाजा गिरवी रखे शेयरों पर कर्ज से जुड़ी कोई दावेदारी नहीं बन रही थी और वे यूं ही यस बैंक के पास पड़े थे। ईडी ने बुधवार को एक बयान में कहा, ‘लिहाजा विजय माल्या/यूबीएच से इन शेयरों को अलग करने और विजय माल्या को लौटने पर मजबूर करने के लिए ईडी ने इन शेयरों को फ्रीज करने का अनुरोध करते हुए पीएमएलए स्पेशल कोर्ट में आवेदन दिया था।’

PMLA कोर्ट का आदेश
ईडी के ही आवेदन पर नवंबर 2016 में माल्या को भगोड़ा घोषित किया गया था। बाद में ईडी के अनुरोध पर पीएमएलए कोर्ट ने कुछ गिरवी और बिना गिरवी वाले शेयर जब्त करने का आदेश दिया था। इनमें यूबीएल के 74,04,932 शेयर भी थे, जो यूबीएचएल के पास थे। किंगफिशर एयरलाइंस को दिए गए लोन पर जमानत के रूप में ये शेयर यस बैंक के पास पड़े थे।

यस बैंक को नोटिस
बाद में एसबीआई की अगुवाई वाले बैंकों के समूह की ओर से कदम उठाते हुए डीआरटी, बेंगलुरु के रिकवरी ऑफिसर ने यस बैंक को एक नोटिस पिछले साल जुलाई में दिया। नोटिस में यस बैंक को निर्देश दिया गया था कि वह यूबीएल के ये 74,04,932 शेयर रिकवरी ऑफिसर, डेट रिकवरी ट्राइब्यूनल, बेंगलुरु के पास ट्रांसफर करे, जिसका फाइनल ऑर्डर डीआरटी ने दिया था।

DRT की सख्ती
ईडी ने कहा कि चूंकि ये शेयर पहले ही पीएमएलए स्पेशल कोर्ट के निर्देश पर वह नवंबर 2016 में पहले ही फ्रीज कर चुका था, लिहाजा यस बैंक रिकवरी ऑफिसर के निर्देश पर कदम नहीं उठा सका। यस बैंक से शेयर ट्रांसफर नहीं होने पर डीआरटी ने 13 अगस्त, 2018 को यस बैंक की ऐसेट्स अटैच करने का आदेश दिया था। इसके खिलाफ यस बैंक ने कर्नाटक हाई कोर्ट में अपील की थी, जिसने 27 फरवरी को यस बैंक को निर्देश दिया कि वह यूबीएचएल के शेयर तीन हफ्तों में रिकवरी ऑफिसर के फेवर में सरेंडर कर दे। थे, जो माल्या की सभी कंपनियों की होल्डिंग कंपनी थी। यूबीएचएल पर अभी दुनिया की सबसे बड़ी शराब कंपनी डायाजियो का कंट्रोल है। माल्या की दिवालिया हो चुकी कंपनी किंगफिशर एयरलाइंस के मामले की जांच में प्रवर्तन निदेशालय (एन्फोर्समेंट डायरेक्टरेट यानी ईडी) ने पाया था कि यूबीएल के शेयरों के रूप में काफी ऐसेट्स यस बैंक के पास पड़ी हुई हैं।

 

ईडी के ही आवेदन पर नवंबर 2016 में माल्या को भगोड़ा घोषित किया गया था। बाद में ईडी के अनुरोध पर पीएमएलए कोर्ट ने कुछ गिरवी और बिना गिरवी वाले शेयर जब्त करने का आदेश दिया था। इनमें यूबीएल के 74,04,932 शेयर भी थे, जो यूबीएचएल के पास थे। किंगफिशर एयरलाइंस को दिए गए लोन पर जमानत के रूप में ये शेयर यस बैंक के पास पड़े थे।

 

ईडी के अनुसार, उसने जांच में पाया कि किंगफिशर एयरलाइंस ने लोन का काफी हिस्सा चुका दिया था और मामूली रकम ही बकाया है। लिहाजा गिरवी रखे शेयरों पर कर्ज से जुड़ी कोई दावेदारी नहीं बन रही थी और वे यूं ही यस बैंक के पास पड़े थे। ईडी ने बुधवार को एक बयान में कहा, ‘लिहाजा विजय माल्या/यूबीएच से इन शेयरों को अलग करने और विजय माल्या को लौटने पर मजबूर करने के लिए ईडी ने इन शेयरों को फ्रीज करने का अनुरोध करते हुए पीएमएलए स्पेशल कोर्ट में आवेदन दिया था।’

बाद में एसबीआई की अगुवाई वाले बैंकों के समूह की ओर से कदम उठाते हुए डीआरटी, बेंगलुरु के रिकवरी ऑफिसर ने यस बैंक को एक नोटिस पिछले साल जुलाई में दिया। नोटिस में यस बैंक को निर्देश दिया गया था कि वह यूबीएल के ये 74,04,932 शेयर रिकवरी ऑफिसर, डेट रिकवरी ट्राइब्यूनल, बेंगलुरु के पास ट्रांसफर करे, जिसका फाइनल ऑर्डर डीआरटी ने दिया था।

ईडी ने कहा कि चूंकि ये शेयर पहले ही पीएमएलए स्पेशल कोर्ट के निर्देश पर वह नवंबर 2016 में पहले ही फ्रीज कर चुका था, लिहाजा यस बैंक रिकवरी ऑफिसर के निर्देश पर कदम नहीं उठा सका। यस बैंक से शेयर ट्रांसफर नहीं होने पर डीआरटी ने 13 अगस्त, 2018 को यस बैंक की ऐसेट्स अटैच करने का आदेश दिया था। इसके खिलाफ यस बैंक ने कर्नाटक हाई कोर्ट में अपील की थी, जिसने 27 फरवरी को यस बैंक को निर्देश दिया कि वह यूबीएचएल के शेयर तीन हफ्तों में रिकवरी ऑफिसर के फेवर में सरेंडर कर दे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here