किम जोंग चीन के राष्ट्रपति के साथ बातचीत के दौरान परमाणु निरस्त्रीकरण वार्ता में गतिरोध को लेकर चिंता व्यक्त की

0
326

 

पेइचिंग : उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के साथ बातचीत के दौरान परमाणु निरस्त्रीकरण वार्ता में गतिरोध को लेकर चिंता व्यक्त की। उत्तर कोरिया की आधिकारिक संवाद समिति केसीएनए ने कहा कि किम ने अमेरिका-उत्तर कोरिया के संबंधों में सुधार और परमाणु निरस्त्रीकरण वार्ता में पैदा हुए गतिरोध पर चिंता व्यक्त की। एजेंसी के अनुसार किम ने कहा कि प्योंगयांग के वार्ता के जरिए शांतिपूर्ण समाधान तलाशने के मूल रुख में बदलाव नहीं आया है।

चीन उत्तर कोरिया का मुख्य राजनयिक समर्थक और अहम व्यापारिक साझीदार है। केसीएनए ने कहा, ‘शी चिनफिंग ने कहा कि डीपीआरके (उत्तर कोरिया) द्वारा उठाए गए वैध मुद्दे उनकी उचित मांगें हैं और वह इस बात से सहमत हैं कि डीपीआरके के न्यायसंगत हितों का उचित तरीके से समाधान होना चाहिए।’ शी ने सुविधाजनक समय पर उत्तर कोरिया आने का किम का निमंत्रण स्वीकार कर लिया। यह 2012 में सत्ता के आने के बाद शी की उत्तर कोरिया की पहली यात्रा होगी।

प्योंगयांग ने यह पहली बार नहीं कहा है कि शी ने उनका निमंत्रण स्वीकार किया है। उसने पिछले साल मार्च में किम के बीजिंग की यात्रा करने के बाद भी यही कहा था। उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग उन का कहना है कि उनका देश अमेरिका के साथ दूसरी बैठक को लेकर भरसक प्रयास करेगा।

चीन का उनका यह दौरा एक साल से भी कम समय में चौथा दौरा है। वार्ता के दौरान किम जोंग ने कहा कि बीते वर्ष से कोरियाई प्रायद्वीप में स्थिति कुछ बेहतर हुई है और इसमें चीन की महत्वपूर्ण भूमिका है। उन्होंने कहा कि उत्तर कोरिया, चीन के प्रयासों को सराहता है। किम जोंग अपने बर्थडे के दिन चीन दौरे पर पहुंचे थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here