देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए औद्योगिक क्षेत्र का विशेष महत्व : उपायुक्त जितेंद्र यादव

0
39

फरीदाबाद, 24 सितंबर। उपायुक्त जितेंद्र यादव ने कहा कि विदेशी मुद्रा के संचय ही देश आत्मनिर्भर बनेगा। सरकार और उद्योगपति एक दूसरे के पूरक हैं। उन्होंने कहा कि वैसे तो हमारा देश कृषि प्रधान है। परंतु देश को आत्मनिर्भर बनाने में औद्योगिक क्षेत्र का विशेष महत्व है।
उपायुक्त जितेंद्र यादव आज शुक्रवार को स्थानीय एफआईए हाल में देश के 75वें आजादी के अमृत महोत्सव कार्यक्रम में एक्सपोर्ट कॉन्क्लेव कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शिरकत करके उपस्थित उद्योगपतियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव के तहत भारत के वाणिज्य विभाग द्वारा गत 20 सितंबर से आगामी 26 सितंबर तक वाणिज्य सप्ताह मनाया जा रहा है। वाणिज्य सप्ताह के तहत आज 24 सितंबर को फरीदाबाद में उद्योगपतियों द्वारा एक्सपोर्ट कैनकलेव कार्यक्रम का आयोजन किया गया है।
उपायुक्त जितेंद्र यादव ने कहा कि हर भारतीय नागरिक के अधिकार हैं और अधिकारों के प्रति प्रत्येक भारतीय नागरिक को जागरूक होना चाहिए उसके अलावा प्रत्येक भारतीय नागरिक की जिम्मेदारी भी है जो उन्हें वह पूरी करने में भी कोई कोर कसर नहीं छोड़नी चाहिए। डीसी जितेंद्र यादव ने कहा कि कोई भी काम हो रहा है तो वहां पर रुकावट ने बनकर उस काम को बेहतर करने में अपना योगदान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि किसी भी देश की अर्थव्यवस्था को बदलना है तो एक्सपोर्ट नीति से ही बेहतर अर्थव्यवस्था बनाई जा सकती है। सरकार के 75वें स्वतंत्रता दिवस समारोह पर आजादी अमृत महोत्सव मनाने का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सपना है कि भारत को आत्मनिर्भर बनाने में हर भारतीय नागरिक को अपनी भागीदारी सुनिश्चित करनी होगी। उसके लिए उसका जो भी कर कर्तव्य है उसे पूरा करना चाहिए।डीसी जितेंद्र यादव ने कहा कि सरकार और इंडस्ट्रीज एक दूसरे के पूरक हैं। फरीदाबाद जिला 70 से 80 दशक से ही औद्योगिक क्षेत्र है। फरीदाबाद का देश के वाणिज्य क्षेत्र में उद्योग इंडस्ट्रीज का अलग ही महत्व है। उपायुक्त जितेंद्र यादव ने कहा कि फरीदाबाद के औद्योगिक क्षेत्र के उद्योगपतियों ने कोविड-19 काल के दौरान किसी भी व्यक्ति को भूखा नहीं सोने दिया और गरीब परिवार के को उनके घर तक पहुंचाने में हर संभव मदद इंडस्ट्रीज एसोसिएशन द्वारा की गई। गरीबों को सकुशल अपने परिवार के पास भेजने का काम किया है। यह फरीदाबाद के उद्योगपतियों द्वारा किए गए एक वास्तविक प्रमाण है।एफआईए प्रधान बीआर भाटिया ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र द्वारा अमृत महोत्सव के जरिये की जा रही क्रियान्वित एक जिला एक उत्पाद की स्कीम बहुत ही अच्छी स्कीम है। इससे एक्सपोर्ट वाणिज्य क्षेत्र में सकारात्मक परिणाम मिलेंगे। एक्सपोर्ट करने से देश में विदेशों से धन आता है। उन्होंने कहा व्यापारियों से आव्हान करते हुए कहा कि वे अपने लिए, अपने परिवार के लिए, अपने जिला के लिए, अपने प्रदेश के लिए और अपने देश के लिए अधिक से अधिक एक्सपोर्ट करके देश को वाणिज्य क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने में अपना योगदान दें। मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा चलाई गई आत्मनिर्भर भारत के अमृत महोत्सव अभियान के को सफल बनाने के लिए अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें। एफआईए के चेयरमैन नरेंद्र अग्रवाल ने कहा कि सरकार द्वारा जारी इंडस्ट्रीज क्षेत्र के नियमों के अनुरूप हमें अपने औद्योगिक क्षेत्र को विकास विकसित करना है और सरकार के अमृत महोत्सव के भागीदार बनकर देश को आत्मनिर्भर बनाने में अपना योगदान देना है।
विजय जिंदल ने कहा कि हरियाणा प्रतिवर्ष 175000 करोड रुपए का सपोर्ट कर रहा है। फरीदाबाद जिला गारमेंट्स के क्षेत्र में बेहतर एक्सपोर्ट के क्षेत्र को बढ़ाया जा सकता है। इसके अलावा फरीदाबाद में सरकार द्वारा इंडस्ट्रीज क्षेत्र में बेहतर योगदान दिया जा रहा है। इंडस्ट्रियज विभाग के एडिशनल डायरेक्टर अश्विनी गुप्ता ने कहा कि भारत में हरियाणा एक्सपोर्ट के क्षेत्र में पांचवें स्थान पर है। हरियाणा के फरीदाबाद, पानीपत, गुरुग्राम औरर करनाल में सबसे ज्यादा एक्सपोर्ट किया जा रहा है। हरियाणा बासमती चावल का देश में एयरपोर्ट के क्षेत्र में पहला प्रदेश है। फरीदाबाद में भी लगभग 5720 करोड रुपये की धनराशि का एक्सपोर्ट प्रति वर्ष किया जा रहा है। इंडस्ट्रीज विभाग के उप निदेशक अनिल चौधरी ने कहा कि भारत सरकार के वाणिज्य मंत्रालय के द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार देश के 739 जिलों में वाणिज्य सप्ताह मनाया जा रहा है और इस वाणिज्य सप्ताह में देश को वाणिज्य क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने की ओर लोगों को प्रेरित किया जा रहा है। भारत को आत्मनिर्भर बनाने में प्रत्येक नागरिक को भागीदार बनाने के लिए जागरूक किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार का वन जिला, वन रैंक, वन एक्सपोर्ट की स्कीम बहुत ही अच्छी स्कीम है और यह फरीदाबाद के औद्योगिक क्षेत्र में कारगर सिद्ध होगी। इस एक्सपोर्ट स्कीम को जन आंदोलन का रूप लेने के लिए हमें आमजन को जागरूक करना होगा। प्रदेश में 175000 करोड़ रुपये की धनराशि का प्रतिवर्ष एक्सपोर्ट किया जा रहा है। फरीदाबाद का लगभग 6000 करोड़ रुपये का वार्षिक टर्न ओवर है। फरीदाबाद जिला में गारमेंट, इलेक्ट्रिकल मैट्रियल और टायर आदि का एक्सपोर्ट किया जा रहा है। हरियाणा के उद्योग एवं वाणिज्य विभाग द्वारा ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के अवसर पर भारत को बढ़ती आर्थिक शक्ति के रूप में प्रदर्शित करने के लिए फरीदाबाद में वाणिज्य-उत्सव में हरियाणा से किए जाने वाले निर्यात पर राज्यस्तरीय प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया।मंच संचालन रोहित ने किया। इस अवसर पर पोलुशन बोर्ड की अधिकारी सुनीता सहित शहर के गणमान्य उद्योगपतियों ने भाग लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here