इंडिगो का मुनाफा Q4 में पांच गुना बढ़ा

0
303

नई दिल्ली: इंडिगो का नेट प्रॉफिट मार्च क्वॉर्टर में पांच गुना बढ़ गया। कंपनी को पिछले साल के लोअर बेस का फायदा मिला। जेट एयरवेज की कैपेसिटी में तेज गिरावट आने से भी कंपनी को फायदा हुआ। उससे कंपनी को प्राइस और मार्केट शेयर बढ़ाने में मदद मिली थी। देश की सबसे बड़ी एयरलाइन इंडिगो का आधे घरेलू बाजार पर कब्जा है।उसने कहा है कि मार्च क्वॉर्टर में उसे 589 करोड़ रुपये का नेट प्रॉफिट हुआ जो सालभर पहले 118 करोड़ रुपये था। पिछले फिस्कल के चौथे क्वॉर्टर में कंपनी का रेवेन्यू 36% बढ़कर 7,883 करोड़ रुपये हो गया। एयरलाइन ने कहा कि इस दौरान उसकी यील्ड पर किलोमीटर में 12% बढ़ोतरी हुई। इस दौरान कंपनी का रेवेन्यू पर अवेलेबल सीट किलोमीटर 6% बढ़ गया। हालांकि मार्च क्वॉर्टर में कंपनी का ऐवरेज लोड 89% से गिरकर 86% रह गया।

इंडिगो ने कहा कि उसने मौजूदा फाइनैंशल ईयर में अपनी कैपेसिटी 30% बढ़ाने की योजना बनाई है। मार्च में इसके पास 217 विमानों का बेड़ा था जबकि इस साल कंपनी 53 विमानों की डिलीवरी लेनेवाली है, जिनमें 11 एटीआर और 15 ए321 नियो विमान शामिल हैं। ए321 नियो कंपनी के बेड़े का आधार बने ए320 नियो का स्ट्रेच्ड वर्जन हैं। इंडिगो के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर ने कहा कि कंपनी ने हर महीने 40 कमांडर्स की भर्ती कर उनकी कमी की समस्या दूर कर ली है। कमांडर्स की कमी के चलते साल की शुरुआत में इंडिगो को 30 डेली फ्लाइट्स कम करने पड़ गई थीं।

कंपनी ने रिजल्ट्स के ऐलान के बाद एनालिस्टों के साथ हुई कॉन्फ्रेंस कॉल में सीईओ रणंजय दत्ता ने कहा कि जेट एयरवेज का कामकाज बंद होने से इंडिगो का रेवेन्यू पर यूनिट 3-4% बढ़ गया। उन्होंने कहा कि कंपनी के रेवेन्यू में बाकी 5% की बढ़ोतरी डिस्काउंटेड सेल्स और नेटवर्क ऑप्टिमाइजेशन से हासिल हुई है। जेट का कामकाज 17 अप्रैल को बंद हो गया था। दत्ता ने कहा कि उस महीने कंपनी का रेवेन्यू मार्च से ज्यादा रहा, लेकिन कॉम्पिटिटर्स के कैपेसिटी एडिशन के चलते इसका फायदा मई में कम हो जाएगा और जून में खत्म हो जाएगा।

कंपनी के COO ने कहा कि उसने जेट एयरवेज के 285 पायलट्स हायर किए हैं जो 3-6 महीनों में कंपनी के प्लेंस उड़ाना शुरू कर देंगे। इंडिगो ने 737 बोइंग के पायलट्स हायर किए हैं जिन्हें एयरबस ए320 को उड़ाने लायक बनने में लगभग छह महीने लगेंगे।

मार्च के अंत में इंडिगो के पास 15,308 करोड़ रुपये का कैश रिजर्व था जो पिछले साल से 12% ज्यादा था लेकिन उसका फ्री कैश फ्लो 14% गिरकर 6,079.6 करोड़ रुपये रह गया। बताया जा रहा है कि यह प्लेंस की डिलीवरी के लिए किए गए पेमेंट के चलते हुआ है। कंपनी पर मार्च के अंत में 2,429.2 करोड़ रुपये का कर्ज था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here