हिटलर की पेंटिंग नीलामी पर जर्मनी में आक्रोश

0
386

 

न्यूरेमबर्ग : अडॉल्फ हिटलर की पांच पेंटिंग्स की जर्मनी के न्यूरेमबर्ग शहर में नीलामी होगी जिससे लोगों में यह आक्रोश पैदा हो गया है। नीलामी का विरोध करनेवालों का कहना है कि नाजी काल की स्मरणीय वस्तुओं का बाजार अब भी सक्रिय है।

न्यूरेमबर्ग शहर के मेयर उलरिच मैली ने नीलामी की निंदा करते हुए इसे खराब बताया। स्थानीय रिपोर्ट्स के अनुसार, शहर में हिटलर के सामानों की नीलामी को क्रूर प्रक्रिया को दोहराने का उदाहरण बताया गया है। जिन वस्तुओं की नीलामी होगी उनमें पर्वतीय नदी के दृश्य वाली एक तस्वीर भी है जिसकी शुरुआती कीमत 51,000 डॉलर है और एक बेंत की बनी आरामकुर्सी है जिस पर स्वास्तिक का चिह्न है। ऐसा माना जाता है कि यह आरामकुर्सी नाजी तानाशाह की थी। द वील्डर ऑक्शन हाउस न्यूरेमबर्ग में विशेष बिक्री कर रहा है।

इन कलाकृतियों में ए.हिटलर के हस्ताक्षर या नाम-चिह्न (मोनोग्राम) वाली तस्वीरें और अन्य साजो-सामान शामिल हैं। इनमें कई विधाएं और माध्यम शामिल हैं। कैटलॉग में कहा गया, ‘ये वस्तुएं ऑस्ट्रिया या यूरोपीय निजी स्वामित्व वाली संस्था से आ रही हैं जो मूल रूप से तीसरे जर्मन राज्य, उसके वारिसों या संग्रहकों की कंपनियों से हासिल हुई हैं।

इस शहर में 1945 में नाजी युद्ध अपराधियों पर मुकदमा चला था। हिटलर की कथित कलाकृतियों की नीलामी को लेकर आए दिन आक्रोश पैदा होता है कि खरीदने वाले लोग देश के नाजी इतिहास से जुड़ी कलाकृतियों के लिए ऊंचे दाम देना चाहते हैं। जर्मनी में नाजी प्रतीकों का सार्वजनिक रूप से प्रदर्शन गैरकानूनी है, लेकिन शैक्षिक और ऐतिहासिक संदर्भों में यह अपवाद हो सकता है। कानून का पालन करते हुए ऑक्शन हाउस ने चिह्नों को ढक दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here