वर्ल्ड कप में सचिन से लेकर रहाणे तक ने निभाया है उपयोगी किरदार

0
326

 

 

आखिर वर्ल्ड कप 2011 में वह इस भूमिका में खरे उतरे थे। वर्तमान भारतीय कप्तान तब पांच मैचों में नंबर चार पर उतरे थे, जिनमें उन्होंने एक शतक की मदद से 202 रन बनाए थे। युवराज ने भी दो मैचों में इस स्थान की जिम्मेदारी संभाली थी जिसमें बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने एक शतक की मदद से 171 रन बनाए थे। भारत जब 1983 में वर्ल्ड चैंपियन बना था, तब यशपाल शर्मा (3 मैचों में 112 रन) और संदीप पाटिल (3 मैचों में 87 रन) ने नंबर 4 पर उपयोगी योगदान दिया था।

दिलीप वेंगसरकर दो मैचों में इस स्थान पर उतरे थे जिसमें उन्होंने 37 रन बनाए थे। वेंगसरकर 1987 में पांच मैचों में नंबर चार बल्लेबाज के रूप में खेले थे, जिसमें उनके नाम पर 171 रन दर्ज है। पहले दो वर्ल्ड कप में गुंडप्पा विश्वनाथ (कुल 6 मैचों में 145 रन) ने यह भूमिका बखूबी निभाई थी, जबकि 1992 में तेंडुलकर (सात मैच में 229 रन) के लिए यह नंबर तय था। तेंडुलकर ने वर्ल्ड कप में भारत की तरफ से नंबर चार पर सर्वाधिक 12 मैच खेले हैं, जिनमें उनके नाम पर 400 रन दर्ज है। उनके बाद मोहम्मद अजहरूद्दीन (9 मैचों में 238 रन) का नंबर आता है। वह 1996 में छह मैचों में नंबर चार पर उतरे थे लेकिन नाबाद 72 रन की एक पारी के अलावा कोई कमाल नहीं दिखा पाए थे।

इंग्लैंड में पिछला वर्ल्ड कप 1999 में खेला गया था और तब अजय जडेजा (3 मैचों में 182 रन), तेंडुलकर (3 मैचों में 164 रन) और अजहर (2 मैचों में 31 रन) ने इस नंबर की जिम्मेदारी संभाली थी। इसके चार साल साउथ अफ्रीका में खेले गए वर्ल्ड कप में मोहम्मद कैफ सर्वाधिक 6 मैचों में नंबर चार पर उतरे थे, जिसमें उन्होंने 142 रन बनाए। उनके अलावा राहुल द्रविड़, सौरभ गांगुली, युवराज और नयन मोंगिया को भी इस स्थान पर आजमाया गया था।

कोहली ने वर्ल्ड कप 2011 के बाद नंबर 3 पर अच्छी जिम्मेदारी निभाई और यही वजह है कि वर्ल्ड कप 2015 में अजिंक्य रहाणे सात मैचों में इस स्थान पर बल्लेबाजी के लिये उतरे जिसमें उन्होंने 208 रन बनाए। एक मैच में सुरेश रैना ने यह जिम्मेदारी संभाली और 74 रन की पारी खेली। ये दोनों इस समय वर्ल्ड कप टीम में नहीं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here