भूखे को भोजन और प्यासे को पानी पिलाना ही पुण्य का कार्य : गोस्वामी श्याम लाल जी महाराज

0
456

 

सत लाल जी मिशन चैरिटेवल ट्रस्ट द्वारा निर्जला एकादशी पर 2 जी 37 में मीठे पानी व प्रसाद का वितरण किया गया। इस अवसर पर  लाल जी महाराज कुटिया साहिब गद्दीनशीन गोस्वामी श्याम लाल जी महाराज व उनकी धर्म पत्नी ममता गोस्वामी ने पूजा कर प्रसाद का वितरण किया। गद्दीनशीन गोस्वामी श्याम लाल जी महाराज ने कहाकि हिंदू पंचांग के अनुसार वर्ष में 24 एकादशियां आती हैं। लेकिन अधिकमास की एकादशियों को मिलाकर इनकी संख्या 26 हो जाती है। सभी एकादशियों पर हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले भगवान विष्णु की पूजा करते हैं व उपवास रखते हैं। मान्यता है कि इस दिन व्रत रखने पूजा और दान करने से व्रती जीवन में सुख.समृद्धि का भोग करते हुए अंत समय में मोक्ष को प्राप्त होता है। लेकिन इन सभी एकादशियों में से एक ऐसी एकादशी भी है जिसमें व्रत रखकर साल भर की एकादशियों जितना पुण्य कमाया जा सकता है। यह है ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी। इसे निर्जला एकादशी कहा जाता है। एकादशी पर जल पिलाने से भगवान और पितृ दोनों ही प्रसन्न होते है। भीषण गर्मी में किसी को पानी मिल जाए तो वह अमृत के समान होता है। उन्होंने कहा कि भूखे को भोजन और प्यासे को पानी पिलाना ही श्रेष्ठ पुण्य माना गया है और यह हम सभी का सामाजिक दायित्व भी बनता है। जिसमें हमें अपनी अहम भागीदारी निभानी चाहिए।इस अवसर पर सेवादार ऋषि गोस्वामी,प्रिंस गोस्वामी,सन्नी गाँधी,गुलशन ग्रोवर,संजय भाटिया,हरीश भाटिया,गौरव सचदेवा,सुरेंद्र गेरा,पंकज चुग,विशाल व अन्य सेवादारों ने मीठे पानी व प्रसाद का वितरण

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here