जूलियन असांजे की गिरफ्तारी के बाद इक्वाडोर पर 4 करोड़ साइबर हमले हुए

0
62

 

खार्तूम : सूडान की सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि सऊदी नीत सैन्य गठबंधन में शामिल सूडान की सेना यमन में अरब गठबंधन के लक्ष्य को हासिल करने तक वहां बनी रहेगी। सूडान की नई सत्तारूढ़ सैन्य परिषद में दूसरे नंबर के नेता मोहम्मद हमदान डागलो ने आधिकारिक  यह जानकारी दी। न्यूज एजेंसी के अनुसरा, ‘हम अरब गठबंधन के साथ अपनी प्रतिबद्धता बनाए रखेंगे और हमारे सैनिक तब तक वहां रहेंगे जब तक गठबंधन अपने लक्ष्य को हासिल नहीं कर लेता है।’ सूडान के अपदस्थ राष्ट्रपति उमर अल-बशीर ने 2015 में यमन में अपनी सेना तैनात की थी। इस कदम से सूडान की विदेश नीति में बड़ा बदलाव आया था क्योंकि उसने दशकों से सहयोगी रहे ईरान से अपना संबंध खत्म करके सऊदी नीत गठबंधन से हाथ मिला लिया था।

इस बीच संकट से जूझ रहे सूडान के संघर्ष प्रभावित क्षेत्र दरफुर में विस्थापितों के लिए बने एक शिविर में हुई झड़पों में 14 लोगों की मौत हो गई। आधिकरिक समाचार एजेंसी की खबर के अनुसार यह झड़प शनिवार को दक्षिण दारफुर के कलमा शिविर में हुई। यहां हजारों की संख्या में विस्थापित लोग रहते हैं।

समाचार समिति ने दक्षिण दारफुर के कार्यवाहक गवर्नर जनरल हाशिम खालिद के हवाले से सोमवार को कहा, ‘शनिवार को कलमा शिविर के अंदर हुई झड़पों में 14 लोगों की जान चली गई।’ उन्होंने झड़प किस वजह से हुई और किन समूहों के बीच हुई इसकी कोई जानकारी नहीं दी है। खालिद ने कहा कि शिविर में हथियार हैं और ऐसे समूह हैं जो राज्य की सुरक्षा को प्रभावित करते हैं। बता दें कि संयुक्त राष्ट्र के अनुसार 2003 से अब तक लगभग 3,00,000 लोग दारफुर में मारे गए हैं और अन्य 25 लाख लोग विस्थापित हुए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here