बागवानी विभाग द्वारा जिला स्तरीय एक दिवसीय सेमीनार का किया गया आयोजन

0
283

 

हथीन: बाग लगाओ अभियान के तहत गाॅव अंधरौला मे बागवानी विभाग द्वारा जिला स्तरीय एक दिवसीय सेमीनार का आयोजन किया गया जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में बिजेन्द्र सिहॅ दलाल, अध्यक्ष किसान कल्ब पलवल ने शिरकस्त की  इस अवसर पर दलाल व डा0 रज्जाक, जिला उद्यान अधिकारी ने पौधा लगाकर बाग लगाओ अभियान की शुरूआत की दलाल ने बताया कि बागवानी मिशन के तहत सरकार द्वारा विभिन्न मदों के तहत अनुदान राशि जारी की जा रही है । इसके अतिरिक्त जिला पलवल में राजकीय बाग एंव नर्सरी होडल पर बागवानी उत्कृष्टा केन्द्र की स्थापना की गई है । जिसमें क्षेत्र के किसान बागवानी से सम्बन्धित सभी प्रकार की नवीनतम तकनीकी जानकारी लें सकेंगें । उन्होने किसानो को अपने खेतों में बाग व सब्जी लगाने के लिए प्रेरित किया व बताया कि हरियाणा सरकार का लक्ष्य किसानों की आमदनी को दोगुना करने का है व इसी के तहत किसानो को बागवानी अपनाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है इसी क्रम में सब्जी लगाने के क्षेत्र को दोगुना करने हेतू विभाग द्वारा अनुदान पर सब्जी बीज उपलब्ध कराया जा रहा है । उन्होने बताया कि आज किसानो को बागवानी सम्बन्धित फसलों की तरफ ध्यान देना चाहिए इसके लिए बागवानी विभाग द्वारा समय पर ट्रेनिंग का आयोजन निशुल्क कराया जाता है जिससे जानकारी लेकर वे अपनी फसल से और अधिक आमदनी प्राप्त कर सकते है । बागवानी सम्बन्धित किसी भी प्रकार की समस्या के लिए जिला उधान अधिकारी पलवल से सम्पर्क करें । इस अवसर पर बागवानी विभाग से डा0 अब्दुल रज्जाक, जिला उधान अधिकारी, डा0 रधुबीर सिहॅ सैनी (बागवानी विषेशज्ञ, कृृषि विज्ञान केन्द्र, मण्डकोला), डा0 महबूब खान (उधान विकास अधिकारी), डा0 कृष्ण कुमार (जिला बागवानी सलाहकार) भी उपस्थित थे व अपने विचार किसानो के सम्मुख रखे ।डा0 रज्जाक ने विभाग द्वारा जिला पलवल में चलाई जा एम0आई0डी0एच0,एस0सी0एस0पी0, जी0ए0पी0, आई0एच0डी0, एन0एम0एम0पी0, सूक्ष्म सिचाई व अन्य स्कीमों में बारे में किसानो को विभिन्न मदो के तहत प्रदान की जाने वाली अनुदान राशि बारे में जानकारी दी । डा0 सैनी ने फल एवं सब्जियों में लगने वाले कीट, बिमारी आदि के बारे में जानकारी देते हुए उनके प्रबन्धन व रोकथाम के उपायों से किसानो को अवगत कराया व सब्जियों की खेती वैज्ञानिक तरीके से करने पर जोर दिया उन्होने बताया कि आज किसान की जोत दिन प्रतिदिन घट रही है व हम परम्परागत तरीकेे अपनाकर अधिक पैदावार नही ले सकते इसलिए हमें अब वैज्ञानिक तरीके से सब्जियों की खेती करनी चाहिए । इसके लिए उन्होने उच्च कोटि के बीज अपनाते हुए संतुलित मात्रा मे खाद व उर्वरक व कीटनाशको के प्रयोग के बारे मे जानकारी दी, उन्होने बताया कि खादो का प्रयोग मिटटी परिक्षण के आधार पर ही करें । ज्यादा खाद व कीटनाशको के प्रयोग करने से जमीन की सेहत के साथ साथ मानव शरीर पर भी कुप्रभाव पडता है यहां तक की यह मनुष्य मे कैंसर जैसी घातक बीमारियों का भी कारण बनते है । अतः किसान भाईयों से अनुरोध है कि वे जैविक खेती करने पर अधिक घ्यान दें । डा0 महबूब ने सब्जियो व फलो में सूक्ष्म सिंचाई अपनाकर ज्यादा पैदावार के साथ साथ 60 से 70 प्रतिशत पानी की बचत कर सकते है व फसल पैदावार भी अधिक ले सकते है उन्होने बताया कि कृृषको को अपनी पैदावार स्वय ही बेचकर अधिक मुनाफा कमाना चाहिए क्योंकि किसानो को उनकी पैदावार का सही दाम नही मिल पाता , उन्होने कहा कि किसान खेती बाडी समूह मे करें इस पर उधान विभाग अनुदान दे रहा है । डा0 कृष्ण कुमार ने बताया कि आज किसान की जोत दिन-प्रतिदिन कम होती जा रही है इसलिए किसाने पोली हाउस , नेट हाउस व लो टनल लगाकर गैर मौसमी सब्जी उगाने के साथ -साथ कम भूमि मे भी अधिक पैदावार ले सकते है जिसके लिए उधान विभाग अनुदान राशि प्रदान करता है । इसके साथ साथ उन्होने पोली हाउस, नेट हाउस व लो टनल आदि लगाने वाले किसानो से इसका बीमा करवाने पर जोर देते हुए इसे अतिआवश्यक बताया ताकि आंधी तूफान आदि द्वारा किसान को होने वाली क्षतिपूर्ति की भरपाई हो सके । इस जिला स्तरीय एक दिवसीय सेमीनार में आशिक (जिला पार्षद), हकमुद्वीन (सरपंच, गुराकसर), याकुब(सरपंच अंधरौला), सम्राट सिहॅ चैहान, बिजन सिहॅ व गाॅव अंधरौला से साथ गाॅव नांगल, कौंडल, मंढनाका , खिल्लुका, गुराकसर ,कोट, बहीन, होडल, बढा, औरगाबाद, हथीन आदि गाॅवो के लगभग 450 किसानो ने भाग लिया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here