कस्टम विभाग ने जब्त किया चाइनीज कंपनियों का माल, गोदाम सील

0
329

बेंगलुरु: मुंबई कस्टम ने शिनो इंडिया ईटेल के करीब 500 पार्सल जब्त कर लिए हैं। कंपनी पर आरोप है कि वह टैक्स से बचने के लिए आयातित सामान का मूल्य कम दिखाती थी। शिनो इंडिया चाइनीज अपैरल और लाइफस्टाइल ई-टेलर Shein की ऑफिशियल इंडियन सेलर है। इकनॉमिक टाइम्स को जानकारी मिली है कि अधिकारियों ने अनियमितता के आरोप में कंपनी का वेयरहाउस (गोदाम) भी सील कर दिया हैचीन की दर्जनों ई-कॉमर्स कंपनियां अपने माल की कम कीमत बताकर टैक्स विभाग को चूना लगाती हैं। कस्टम डिपार्टमेंट की यह कार्रवाई मुंबई कूरियर टर्मिनल पर चाइनीज ई-कॉमर्स इंपोर्ट्स पर लगाम लगाने की कोशिश का हिस्सा है।

इसमें कंपनियों के खिलाफ लिए गए ऐक्शन के साथ ऑपरेटरों के काम करने के तरीके के बारे में भी जानकारी दी गई है। अधिकारियों ने बताया कि सरकार के चाइनीज ई-कॉमर्स सेलर्स के खिलाफ ऐक्शन लेने के बाद ये कंपनियां और भी ज्यादा सक्रिय हो गई थीं, जो टैक्स से बचने के लिए शिपमेंट को ड्यूटी-फ्री ‘गिफ्ट और सैंपल्स’ बताती थीं।

भारत ने प्रवासी भारतीयों की सहूलियत के लिए 5 हजार रुपये तक आइटम्स को टैक्स फ्री रखा था, ताकि वे अपने परिवार को गिफ्ट आइटम भेज सकें। इकनॉमिक टाइम्स ने 13 जून को खबर छापी थी कि सरकार गिफ्ट गाइडलाइंस में बदलाव के लिए समीक्षा कर रही है और इसे आगामी बजट में पेश किया जा सकता है।

शिनो इंडिया के खिलाफ सीजर ऑर्डर के मुताबिक, ‘सामान की पैकेजिंग के हिसाब से यह बी2सी यानी बिजनस-टु-कन्ज्यूमर मॉडल लगता है, लेकिन बी2बी यानी बिजनस-टु-बिजनस मॉडल के लिए क्लियरेंस मांगी गई है।’ शिनो इंडिया ईटेल के अलावा ग्लोबमैक्स कॉमर्स इंडिया के भी कुछ पार्सल जब्त किए गए हैं। ग्लोबमैक्स भी एक अन्य चाइनीज ई-टेलर क्लब फैक्ट्री की लोकल यूनिट है।

चाइनीज ई-कॉमर्स फर्में अपने भारतीय ग्राहकों के होलसेल ऑर्डर को शिनो इंडिया ईटेल और ग्लोबमैक्स जैसे इंपोर्टर्स के जरिए भेजती हैं। इससे उन्हें इंडिविजुअल इंपोर्ट पर लगने वाली 42.08 पर्सेंट ड्यूटी नहीं देनी पड़ती है। वे सीबी- 13 लो-वैल्यू वाले रास्ते से माल लाते हैं, जो ज्यादा जानकारी नहीं मांगता है। शिनो इंडिया ईटेल ने ईटी के ईमेल पूछे सवालों के जवाब में बताया, ‘कंपनी ने हमेशा भारत के कानूनों का पालन किया है। हमने अपना सभी टैक्स सही तरीके और समय से दिया है।’

यह भी जानकारी मिली है कि शिनो क्लोदिंग और एक्सेसरीज के डिस्ट्रीब्यूशन में ब्रैंड्स मदद करती है और कुछ वर्षों से कारोबार कर रही है। वहीं, ग्लोबमैक्स कॉमर्स इंडिया ने ईटी के सवालों पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। मुंबई के एक टॉप कस्टम ऑफिशियल ने बताया कि ये फर्में चाइनीज ई-कॉमर्स कंपनियों के मददगार ऑर्गनाइजेशन थे और वे प्रॉडक्ट्स की कम वैल्यू दिखाकर टैक्स बचाते थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here