50 डॉलर के नीचे पहुंचा कच्चा तेल

0
371

 

नई दिल्ली:  कच्चे तेल की कीमत 50 डॉलर प्रति बैरल के नीचे आ गई। इससे तेल निर्यातक देशों के संगठन ओपेक के साथ-साथ अन्य देशों ने तेल उत्पादन में कटौती का ऐलान किया था, जिससे तेल के दाम बढ़ने की आशंका जताई जाने लगी थी। लेकिन, अब इसके उलटा हो रहा है। ध्यान रहे कि ईरान पर अमेरिकी पाबंदियों के ऐलान के मद्देनजर इस वर्ष अक्टूबर महीने में कच्चे तेल की कीमतें बीते चार वर्षों के सर्वोच्च स्तर पर चली गई थीं।

फ्यूचर मार्केट में कच्चे तेल की कीमत 1.1% गिर गई। सोमवार को इसमें 6.2% की गिरावट दर्ज की गई थी। रूस के एनर्जी मिनिस्टर अलेक्जेंडर नोवाक ने निवेशकों को यह कहकर भरोसा दिलाने की कोशिश की कि ओपेक और इसके सहयोगी देशों के बीच तेल उत्पादन में कटौती को लेकर बनी सहमति की वजह से 2019 की पहली छमाही में ऑइल मार्केट में स्थिरता आएगी। उन्होंने कहा कि अगर हालात बदले तो तेल उत्पादक देश उचित कदम उठाएंगे।

अक्टूबर महीने में चार वर्ष के सर्वोच्च स्तर पर जाने के बाद कच्चे तेल की कीमतें 40 प्रतिशत घट चुकी हैं। तेल निर्यातक देशों के संगठन और रूस समेत इसके सहयोगियों ने 6 दिसंबर की बैठक में तेल कटौती पर रजामंदी जाहिर की थी। इससे निवेशकों को डर सताने लगा कि यह फैसला अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का अभाव पैदा करने के लिए काफी है। लेकिन, अमेरिका रेकॉर्ड स्तर पर तेल उत्पादन करने लगा, जिससे यह डर काफूर होता दिख रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here