चांदनी चौक लॉकर मामलाः जांच पूरी होने तक इनकम टैक्स अधिकारी कुछ भी कहने से बच रहे है

0
408

नई दिल्ली :होलसेल हब खारी बावली के एक प्राइवेट लॉकर से करोड़ों रुपये बरामद होने के मामले में जांच पूरी होने तक इनकम टैक्स अधिकारी कुछ भी कहने से बच रहे हैं, लेकिन सेंट्रल गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (सीजीएसटी) अधिकारियों ने यहां मॉनिटरिंग तेज कर दी है। ऐसे और भी लॉकर्स की मौजूदगी और व्यापार में टैक्स चोरी की आशंका के मद्देनजर इनकम टैक्स विभाग के साथ तालमेल भी स्थापित किया जा रहा है।

लेकिन स्टेट जीएसटी कमिश्नर ने साफ किया है कि इनकम टैक्स की ओर से व्यापारिक टैक्स चोरी की रिपोर्ट मिलने के बाद ही विभाग अपनी ओर से कोई कार्रवाई करेगा। सीजीएसटी नॉर्थ कमिश्नरेट के एक अधिकारी ने बताया कि नवंबर में रेड और लॉकर्स की सूचना मिलने के बाद डिविजनल एन्फोर्समेंट ने इलाके का दौरा किया था और अब भी मामले पर नजर रखी जा रही है। हालांकि, पूरी कार्रवाई इनकम टैक्स डोमेन में होने और माल जब्ती या बिक्री में कर चोरी जैसे तथ्य सामने नहीं आने से जीएसटी टीम सीधे दखल नहीं दे रही। आईटी सूत्रों के हवाले से अब तक 140 लॉकर्स से 50-100 करोड़ रुपये मिलने की बात कही गई है, लेकिन आशंका जताई जा रही है कि अन्य बाजारों में भी इस तरीके से कैश होर्डिंग हो सकती है।

दिल्ली स्टेट जीएसटी कमिश्नर एच राजेश प्रसाद ने कहा कि इनकम टैक्स विभाग की ओर से कोई सूचना या रिपोर्ट मिलने के बाद ही हम कोई कार्रवाई करेंगे। अधिकारियों का कहना है कि कैश जब्ती के मामले में आईटी असेसमेंट को संबंधित असेसी के जीएसटी रिटर्न या अकाउंट बुक्स से टैली कराने के बाद ही तय होता है कि इसने बिक्री पर पूरा टैक्स दिया है या नहीं।

एक ट्रेडर ने आरोप लगाया कि कुछ व्यापारियों ने अधिकारियों से कहा कि बेशक वे उनके लॉकर से मिली रकम रख लें, लेकिन उनका नाम कार्रवाई की लिस्ट से हटा दें। अधिकारियों ने ऐसे कई लोगों को राहत दे दी है। व्यापारियों ने इस मसले पर नवंबर में एक दिन का बाजार बंद भी रखा था।

करीब एक महीने से जारी इनकम टैक्स की धीमी कार्रवाई को लेकर बाजार में आक्रोश है और लॉकर्स से संबंधित करीब 300 ट्रेडर्स में से कई आरोप लगा रहे हैं कि इनकम टैक्स अधिकारी सनसनी फैलाकर उनसे अवैध वसूली करने की कोशिश कर रहे हैं। खारी बावली के एक ट्रेडर ने कहा, ‘यह प्राइवेट लेकिन सरकारी मान्यता प्राप्त लॉकर है, जिसमें हम 20 साल से कैश रखते आ रहे हैं। अगर कोई अपने कैश का हिसाब न दे पाए तो उस पर कार्रवाई कीजिए, लेकिन सनसनी फैलाकर पूरे बाजार को बदनाम करना और व्यापार ठप करना ठीक नहीं है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here