स्ट्रेस की वजह से युवा करते हैं स्मोकिंग

0
387

 

लोग स्ट्रेस से निपटने के लिए धूम्रपान करते हैं। एविस फाउंडेशन के सर्वे के मुताबिक, 15-50 साल उम्र के बीच के हर तीसरे व्यक्ति को स्मोकिंग की लत है।इसके मुताबिक, सर्वे में जवाब देने वाले 15 से 50 की उम्र के 33 फीसदी लोगों ने माना कि उन्हें सिगरेट पीने की लत है। सर्वे में यह खुलासा हुआ कि युवाओं को लगता है कि सिगरेट पीने से उनका स्ट्रेस कम होता है। सर्वे फिगर्स के मुताबिक, 56 फीसदी लोग सोचते थे कि स्मोकिंग से उन्हें तनाव में राहत मिलती है।वहीं उनमें से 55 फीसदी लोगों ने यह माना कि उन्हें इसके दुष्परिणाम पता है और अपनी हेल्थ की चिंता है लेकिन फिर भी वे स्मोकिंग करते हैं। इसके अलावा 55 फीसद लोग ऐसे थे जिन्होंने स्मोकिंग छोड़ने की कोशिश की लेकिन असफल रहे। स्मोकिंग का अडिक्शन इतना जबरदस्त होता है कि उन्हें इसे छोड़ने में दिक्कत आ रही है।
भारत उन देशों में से एक है जहां तंबाकू की लत से मरने वालों की संख्या काफी ज्यादा है। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) के मुताबिक, दुनिया के 12 फीसदी स्मोकर्स भारत में हैं।

फाउंडेशन की हेड प्रेरणा गर्ग बताती हैं, ‘जहां सरकार की पॉलिसीज अवेयरनेस प्रोग्राम्स के प्रति हमेशा केयरफुल रहती है। सर्वे के फिगर इस ओर इशारा करते हैं कि अब इस मुद्दे का हल निकालने के लिए और प्रभावी रणनीति बनाने की जरूरत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here