पशुपालन एक लाभकारी सहायक कृषि कार्य है: उपायुक्त यशपाल

0
362

 

पलवल: उपायुक्त यशपाल ने बताया कि कृषि कार्यों के साथ-साथ पशुपालन एक लाभकारी सहायक कृषि कार्य है। सीमांत किसानों, बेरोजगार युवाओं को भी पशुपालन का व्यवसाय अपनाना चाहिए। सभी पशु चिकित्सकों की सलाह से पशुपालन करें। पशु पालन एवं डेयरिंग विभाग की योजनाओं का लाभ उठाएं। पशु चिकित्सकों की सलाह पर अपने पशुओं में रोगों की रोकथाम के लिए समय-समय पर टीकाकरण अवश्य करवाएं।
पशुपालन एवं डेयरिंग विभाग पलवल की उप-निदेशक डा. नीलम आर्य ने विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुए बताया कि उपायुक्त के निर्देशानुसार जिला में पशु पालन का कार्य सुचारू रूप से करने के लिए समय-समय पर किसानों को जागरूक किया जाता है। उन्होंने बताया कि चालू वित्त वर्ष के दौरान पलवल जिला क्षेत्र में कुल 43713 दुधारू पशुओं का कृत्रिम गर्भाधान किया गया। जिनमें कुल 33412 भैंस व कुल 10301 गाय शामिल हैं। जिला क्षेत्र में 215732 पशुओं को मुहखुर तथा 3800 पशुओं को भेडमाता से बचाव के टीके लगाए गए। इसी प्रकार कुल 5300 पशुओं का इन्टीरो टॉक्सिनियां वैक्सिनेशन किया गया। इसके अलावा 20 सूत्रीय कार्यक्रम के अंतर्गत 10 दुधारू यूनिट तथा 5 मिल्च एनीमल्स लघु डेयरी यूनिट स्थापित की गई।
देसी गायों की मिनी डेयरी योजना के तहत गाय की देशी नस्लों के संरक्षण एव विकास तथा राज्य में गौ वंश संवर्धन को बढ़ावा देने के लिए गायों की डेरी इकाई लगाने वाले पशुपालकों को 50 प्रतिशत अनुदान गायों के खरीद मूल्य पर दिया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here