गोएयर के 75 फीसदी विमान ही भर रहे हैं उड़ान

0
345

 

नई दिल्ली :  स्थिर मैनेजमेंट टीम पाने के लिए संघर्ष कर रही वाडिया ग्रुप की एयरलाइन कंपनी गोएयर के 75% से 77% विमान ही उड़ रहे हैं। कंपनी के पास 47 एयरबस A320 विमानों का बेड़ा है। सस्ती विमान सेवाएं उपलब्ध कराने वाली कंपनी के सीईओ ने 8 महीने सेवा के बाद ही फरवरी में इस्तीफा दे दिया।

पिछले कुछ महीने से एयरलाइन के टॉप मैनेजमेंट में महत्वपूर्ण मंथन चल रहा है। 2005 में कारोबार की शुरुआत करने वाली कंपनी अपने समकालीनों इंडिगो और स्पाइसजेट आदि के मुकाबले सबसे छोटी रह गई है। इस मामले की जानकारी रखने वाले एक व्यक्ति ने कहा, ‘अभी एयरलाइन के 35 से 36 विमान ही उड़ रहे हैं, एयरलाइन के लिए नेटवर्क अभी भी कमजोर क्षेत्र बना हुआ है।’ इंडिगो, स्पाइसजेट, एयर एशिया इंडिया और विस्तारा जैसी कंपनियां दिल्ली, मुंबई और बैंगलुरु एयरपोर्ट्स पर जेट एयरवेज द्वारा इस्तेमाल नहीं किए जा रहे स्लॉट्स के जरिए फ्लाइट्स की संख्या बढ़ाने की कोशिश कर रही हैं।

गोएयर के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘एयरलाइन कारोबार में कई दृष्टिकोण से मंदी और तेजी के सीजन आते हैं, जिसमें सेल्स, मार्केटिंग और मैंटिनेंस शामिल है। दक्ष और होशियार कंपनियां मंदी के सीजन में विमानों का पूर्व निर्धारित मेंटिनेंस करती हैं ताकि तेजी के समय पूरा फायदा उठा सके।’ प्रवक्ता ने कहा कि गोएयर भी इस सिद्धांत पर काम करता है।

गोएयर के सीईओ कॉर्नेलिस व्रीस्विज्क ने फरवरी में इस्तीफा दिया। व्रीस्विज्क से पहले दिसंबर 2017 में वाडिया ग्रुप के प्रमोटर्स से कुछ मुद्दों पर असहमति के बाद तत्कालीन सीईओ वोल्फगैंग प्रोक शाउर ने कंपनी का साथ छोड़ दिया था और प्रतिद्वंद्वी कंपनी इंडिगो को सीओओ के रूप में जॉइन किया। नए चीफ एग्जीक्युटिव ऑफिस की तलाश पूरी होने तक एयरलाइन के एमडी जेह वाडिया सीईओ की भूमिका निभाएंगे।

गोएयर ने 144 एयरबस A320 नियो का ऑर्डर दिया है। एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा कि कंपनी का प्लान पुराने A320 वर्जन को लौटाकर कम ईंधन खर्च वाला A320 नियो को बेड़े में शामिल करने का है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here