सीमा कुशवाह, जिन्होंने सात साल 3 महीने 4 दिन के संघर्ष के बाद दिलाया इंसाफ

0
80

नई दिल्ली ,प्रीती झा

जीत सच्चाई की होती है बस उसके लिए लड़ने का जज्बा होना चाहिए… यही जज्बा निर्भया केस में निर्भया की तरफ से केस लड़ रहीं वकील सीमा कुशवाहा ने दिखाया… यह सीमा कुशवाहा और निर्भया की मां की उम्मीद ही थी जिसकी जीत आज सात साल 3 महीने 4 दिन बाद हुई है. आज निर्भया के चारो दोषियों को फांसी की सजा हो गई….आईए जानते सीमा कुशवाहा के बारे में जिन्होंने निर्भया केस में इंसाफ दिलाया… सीमा उत्तर प्रदेश की रहने वाली हैं… उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से वकालत की पढ़ाई की है… जिस वक्त निर्भया के साथ यह दर्दनाक घटना हुई उस वक्त सीमा कोर्ट में ट्रेनिंग कर रहीं थी… जैसे ही उन्हें इस केस का पता चला उन्होंने बिना पैसे के इस केस को लड़ने का फैसला किया…सीमा के वकालत करियर का यह पहला केस था और उनका हौसला और जज्बा ही था कि  दोषियों को फांसी के साथ उनकी जीत हुई… सीमा ने न सिर्फ कोर्ट में निर्भया के पक्ष में दलीले दी बल्कि कोर्ट के बाहर भी निर्भया के माता पिता के साथ हमेशा खड़ी रही….सीमा की कहानी भी बड़ी दिलचस्प है… वह वकील नहीं बल्कि पहले आईएएस अफसर बनना चाहती थीं…यूपीएससी परीक्षा देने की पूरी तैयारी भी कर चुकी थीं, लेकिन किस्मत को उनके लिए वकालत का पेशा ही मंजूर था… साल 2014 में वह सीमा ज्योति लीगल ट्रस्ट से जुड़ीं, जो दुष्कर्म पीड़ितों के लिए मुफ्त में केस लड़ता है और उन्हें कानूनी सलाह देता है….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here