करियर के आखिरी वर्षों में बेहद निराश रहे :वेन रूनी

0
820

लंदन: इंग्लिश क्लब मैनचेस्टर यूनाइटेड के महान खिलाड़ी वेन रूनी ने माना कि वह टीम के साथ अपने करियर के आखिरी वर्षों में बेहद निराश थे और उनके पास क्लब छोड़ने के अलावा और कोई चारा नहीं था। रूनी ने यूनाइटेड में साल 2004 से 2017 तक रहे।

उन्होंने क्लब के साथ पूरे 13 साल बिताए और क्लब के रेकॉर्ड गोलस्कोरर भी बने। उन्होंने रेड डेविल्स के साथ पांच प्रीमियर लीग और चैंपियंस लीग खिताब भी जीता। एक इंटरव्यू में रूनी ने कहा, ‘कई पल आते हैं जब एक खिलाड़ी के तौर पर आपको खुद पर संदेह होता है। आप सोचते हैं कि क्या मैं खेलने लायक हूं। उस वक्त जोस मोरिन्हो ने मुझे मैनचेस्टर यूनाइटेड टीम से बाहर कर दिया। ये ऐसे पल होते हैं जब आपको खुद पर शक होने लगता है। मुझे यकीन है कि मैं इतना अच्छा था कि टीम में वापसी कर सकूं, लेकिन सच में मुझे कभी मौका ही नहीं मिला।’

रूनी ने कहा, ‘यूरोपा लीग के फाइनल में मैं एक मिनट के लिए मैदान पर आयाए लीग कप के फाइनल में साउथैम्प्टन के खिलाफ मैं पिच पर बस आने ही वाला था और ये सब ऐसे पल हैं जब आप शर्मिंदा महसूस करते हैं। मैंने सोचा कि मैं नहीं कर सकताए मैनचेस्टर यूनाइटेड छोड़ना बेहद मुश्किल था।’

उन्होंने कहा, ‘साउथैम्प्टन के खिलाफ हुए मैच के बाद मोरिन्हो मेरे पास आए और कहा कि मैं चाहता हूं कि तुम ट्रॉफी उठाओ। मैंने सोचा कि मैंने तो गेम में खेला ही नहीं। वह जिद पर थे और फिर अंतत: मैंने ट्रॉफी उठाई। मुझे पता चल गया था कि अब मुझे कहीं और जाना ही होगा।’ रूनी फिलहाल अमेरिकी क्लब डीसी यूनाइटेड के लिए खेल रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here